BSF के ज़वान का तिरंगे में लिपटा पार्थिव शरीर पहुँचा उनके गाँव, एक झलक पाने के लिए उमड़ा जन सैलाब

BSF में पिछले कई वर्षों से कार्यरत ग्राम- रामदयाल ठाकुर डेरा के निवासी श्री राज गोपाल ठाकुर जब पार्थिव शरीर उनके गाँव पहुंचा तो सबकी आंखें नम हो गईं। उनकी एक झलक पाने के लिए लोग बेताब थे।

BSF के ज़वान श्री राज गोपाल ठाकुर

आपको बता दें कि BSF के ज़वान श्री राज गोपाल ठाकुर का दिल का दौरा पड़ने से अचानक निधन हो गया। जब उनके परिवार और गाँव के लोगों तक यह खबर पहुंची तो पूरे गाँव में मातम का माहौल हो गया। हर तरफ जैसे सन्नाटा पसर गया। किसी को यकीन ही नहीं हो रहा था कि BSF का यह ज़वान इतनी जल्दी इस दुनिया को अलविदा कह गया है।

अपने पीछे राज गोपाल ठाकुर रोते हुए अपने परिवार को छोड़ गए हैं। सभी को इंतज़ार था कि फिर से BSF का यह ज़वान आएगा, लेकिन इस तरह आएगा मालूम नहीं था।

जैसे ही इस ज़वान का पार्थिव शरीर को उनके घर पर लाया गया लोगों का हुजूम उमड़ने लगा। लोग उनके पार्थिव शरीर की एक झलक पाने के लिए बेताब हो उठे। वहां पर जो भी उपस्थित था उसकी आँखों में आंसू थे। सब ख़ामोश थे। क्या कहें, क्या ना कहें किसी को कुछ समझ नहीं आ रहा था।

आपको बता दें कि BSF के ज़वान श्री राज गोपाल ठाकुर ईमानदार के साथ-साथ एक बेहद अच्छे इंसान भी थे। अचानक उनका बीच सफर से ही अलविदा कह देना किसी को रास नहीं आ रहा है।

खैर, इस वीर की वीरता को इतिहास हमेशा याद रखेगा और तिरंगे में लिपट कर आना, बहुत कम लोगों को ही नसीब होता है। जब भी देश के वीर जवानों का नाम आएगा, श्री राज गोपाल ठाकुर का नाम भी बड़े फक्र से लिया जाएगा।

“शहीदों की चिंताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पे मरने वालों का बाकी यही निशां होगा”।

5Minutes News, इस ज़वान को सलाम करता है और सच्चे दिल से श्रद्धांजलि अर्पित करता है। जय हिंद!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *